गुरुवार, 22 नवंबर 2012

बचकानी बातें

1. सूरज का रंग लाल और चंद्रमा सफेद क्यों होता 
रात के अँधेरे  में वो चाँद में रंग कैसे भर पाता

2. बड़े होकर लोंगों ने जंगल मिटा दिए
अब फिर से अपनी ड्राइंग बुक में बनाने होंगे

3. पंखा चालू होते ही हवा बिखरने लगी
जैसे किसी ने बटन दबा कर हवा का डब्बा खोल दिया

4. बारिश होते देख अचरज  तो बहुत हुआ
सोचा धरती भी कभी कभी शावर  में नहाती होगी

5. बर्तन बजाकर  संगीत सा लगता था कभी
अब उनके टकराने की आवाज़ से घर बिखरता सा लगता है

6. समुन्दर का पानी क्यूँ हो गया है नमक सा
लोगों का पसीना रस्ते भर घुलता रहा होगा

7. माँ  कहती थी कि  चाँद में दाग हैं
आज कल सुनते हैं कि  दाग अच्छे हैं

1 टिप्पणी:


  1. बड़े होकर लोंगों ने जंगल मिटा दिए
    अब फिर से अपनी ड्राइंग बुक में बनाने होंगे

    :)
    वाह योगी जी !
    वाऽऽह !

    कमाल !
    वाऽह ! क्या बात है !
    मजा आया …

    …आपकी लेखनी से सुंदर रचनाओं का सृजन ऐसे ही होता रहे, यही कामना है …
    शुभकामनाओं सहित…

    उत्तर देंहटाएं